deshbhakti song lyrics

Hum logo ko samajh sako to

हम लोगों को समझ सको तो समझो दिलबर जानी
जितना भी तुम समझोगे उतनी होगी हैरानी
अपनी छतरी तुमको दे दें कभी जो बरसे पानी
कभी नए packetमें बेचें तुमको चीज़ पुरानी
फिर भी दिल है हिन्दुस्तानी
नींद उड़ रही है …
 
थोड़े अनाड़ी हैं थोड़े खिलाड़ी
रुक रुक के चलती है अपनी गाड़ी
हमें प्यार चाहिए और कुछ पैसे भी
हम ऐसे भी हैं हम हैं वैसे भी
हम लोगों को समझ सको तो समझो दिलबर जानी
उल्टी सीधी जैसी भी है अपनी यही कहानी
थोड़ी हममें होशियारी है थोड़ी है नादानी
थोड़ी हममें सच्चाई है थोड़ी बेईमानी
फिर भी दिल है …
 
आँखों में कुछ आँसू हैं कुछ सपने हैं
आँसू और सपने दोनों ही अपने हैं
दिल दुखा है लेकिन टूटा तो नहीं है
उम्मीद का दामन छूटा तो नहीं है
हम लोगों को समझ सको तो समझो दिलबर जानी
थोड़ी मजबूरी है लेकिन थोड़ी है मनमानी
थोड़ी तू तू मैं मैं है और थोड़ी खींचातानी
हममें काफ़ी बातें हैं जो लगती हैं दीवानी
फिर भी दिल है … 
 
Click to rate this post!
[Total: 0 Average: 0]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button