Yeh Zindagi Usi Ki Hai Lyrics – Anarkali (1953)

Ye Zindagi Usi Ki Hai (Lata Mangeshkar, Anarkali) – ये ज़िन्दगी उसी की है – 

Yeh Zindagi Usi Ki Hai Lyrics song- Anarkali (1953) 

Movie/Album: अनारकली (1953)

Singers / Performed By: Lata Mangeshkar / लता मंगेशकर

Song Lyricists / Lyrics By: : Rajendra Krishan / राजिंदर कृष्ण

Music Composer: Ramchandra Narhar Chitalkar (C. Ramchandra)

Music Director / Music By: : Ramchandra Narhar Chitalkar (C. Ramchandra) /  सी.रामचन्द्र

Genres: Romantic

Director: Nandlal Jaswantlal

Music Label: Saregama

Starring: Pradeep Kumar, Bina Rai, Noor Jehan

Anarkali (1953) Songs Lyrics

Year : 1953




yeh zindagi usiki hai lyrics in english



yeh jindgi usiki hai jo kisi ka ho gaya

pyar hi me kho gaya

yeh jindgi usiki hai jo kisi ka ho gaya

pyar hi me kho gaya yeh jindgi usi ki hain



yeh bahar yeh sama keh raha pyar kar

kisiki arjoo me apne dil ko bekarar kar

jindgi hai bewfa

jindgi hai bewfa lut pyar ka maja

yeh jindgi usiki hai jo kisi ka ho gaya

pyar hi me kho gaya yeh jindgi usi ki hain



dhadak raha hain dil toh kya dil ki dhadkane na gin

dhadak raha hain dil toh kya dil ki dhadkane na gin

phir kaha yeh phursate phir kaha yeh rat din

aa rahi hai ye sada

aa rahi hai ye sada mastiyo me jhum ja

yeh jindgi usiki hai jo kisi ka ho gaya

pyar hi me kho gaya yeh jindgi usi ki hain




Ye Zindagi Usi Ki Hai, Jo Kisi Ka Ho Gaya, Pyar Hi Me Kho Gaya Anarkali MOvie Song Lyrics – ये ज़िंदगी उसी की है जो किसी का हो गया



ये ज़िन्दगी उसी की है, जो किसी का हो गया
प्यार ही में खो गया
ये ज़िन्दगी उसी…

ये बहार, ये समा, कह रहा है प्यार कर
किसी की आरज़ू में अपने दिल को बेक़रार कर
ज़िन्दगी है बेवफ़ा, लूट प्यार का मज़ा
ये ज़िन्दगी उसी की है…

धड़क रहा है दिल तो क्या, दिल की धड़कनें ना गिन
फिर कहाँ ये फ़ुर्सतें, फिर कहाँ ये रात-दिन
आ रही है ये सदा, मस्तियों में झूम जा
ये ज़िन्दगी उसी की है…

जो दिल यहाँ न मिल सके, मिलेंगे उस जहान में
खिलेंगे हसरतों के फूल, जा के आसमान में
ये ज़िन्दगी चली गई जो प्यार में तो क्या हुआ
ये ज़िन्दगी उसी की है…

सुनाएगी ये दास्तां, शमा मेरे मज़ार की
फ़िज़ा में भी खिली रही, ये कली अनार की
इसे मज़ार मत कहो, ये महल है प्यार का
ये ज़िन्दगी उसी की है…

ऐ ज़िंदगी की शाम आ, तुझे गले लगाऊं मैं
तुझी में डूब जाऊं मैं, जहां को भूल जाऊं मैं
बस इक नज़र मेरे सनम
अल्विदा, अल्विदा…

Click to rate this post!
[Total: 0 Average: 0]

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *