अजीब दास्ताँ है ये – Ajeeb Dastan Hai Ye (Lata Mangeshkar, Dil Apna Aur Preet Parai)

Movie/Album: दिल अपना और प्रीत पराई (1960)
Music By: शंकर-जयकिशन
Lyrics By: शैलेन्द्र
Performed By: लता मंगेशकर

अजीब दास्ताँ है ये
कहाँ शुरू कहाँ ख़तम
ये मंज़िलें है कौन सी
न वो समझ सके न हम
अजीब दास्ताँ है ये…

ये रौशनी के साथ क्यूँ
धुआं उठा चिराग से
ये ख्वाब देखती हूँ मैं
के जग पड़ी हूँ ख्वाब से
अजीब दास्ताँ है ये…

मुबारकें तुम्हें के तुम
किसी के नूर हो गए
किसी के इतने पास हो
के सबसे दूर हो गए
अजीब दास्ताँ है ये…

किसी का प्यार ले के तुम
नया जहां बसाओगे
ये शाम जब भी आएगी
तुम हमको याद आओगे
अजीब दास्ताँ है ये

Ajeeb Dastan Hai Ye Lyrics in english

Ajib daastaan hai ye, kahaan shuru kahaan khtam
Ye mnzile hain kaunasi, n wo samajh sake n ham

Ye roshani ke saath kyon, dhuan uthha chiraag se
Ye khwaab dekhati hun main ki jag padi hun khwaab se

Mubaaraken tumhen ki tum kisi ke nur ho ge
Kisi ke itane paas ho ki sabase dur ho ge

Kisi ka pyaar leke tum naya jahaan basaaoge
Ye shaam jab bhi aegi, tum hamako yaad aoge

गीतकार : शैलेन्द्र, गायक : लता मंगेशकर, संगीतकार : शंकर जयकिशन, चित्रपट : दिल अपना और प्रीत पराई (१९६०) / Lyricist : Shailendra, Singer : Lata Mangeshkar, Music Director : Shankar Jaikishan, Movie : Dil Apana Aur Preet Parai (1960)

One thought on “Ajeeb Dastan Hai Ye lyrics / अजीब दास्तां है ये, कहाँ शुरू कहाँ ख़तम hindi me lyrics

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *