अपनी मुक्ति का तू तो यतन कर ले भजन लिरिक्स

अपनी मुक्ति का तू तो यतन कर ले।
रोज थोड़ा-थोड़ा हरि सुमिरन कर ले।।

(1) बालापन हँस खेल गमायौ।
तरुण भयौ मस्ती में छायौ।
अब तो आदत में परिवर्तन कर ले।
रोज थोड़ा-थोड़ा हरि सुमिरन कर ले

(2) ये काया कुछ काम न आवै।
धन दौलत तेरे साथ न जावै।।
आगे रास्ते को अपने सुगम कर ले।
रोज थोड़ा-थोड़ा हरि सुमिरन कर ले

(3) बड़े भाग्य मानुष तन पायौ।
वादा कर तू प्रभु से आयौ।
अपने वादे पर वन्दे अमल कर ले।
रोज थोड़ा-थोड़ा हरि सुमिरन कर ले

(4) कुटुम कबीला यहीं रह जाएगौ।
बेटा तुझको नाक नचाएगौ।।
अपनी इच्छाओं का दमन कर ले।
रोज थोड़ा-थोड़ा हरि सुमिरन कर ले

(5) अहंकार की छोड़ डगरिया।
माया को तज दे बाबरिया।
महावीर वाणी को अमृतमय कर ले।
रोज थोड़ा-थोड़ा हरि सुमिरन कर ले

Leave a Reply