अब कैसे होवे जग में जीवन हमारी हेली भजन लिरिक्स

।। दोहा ।।
कहे संत संग्राम से ,हीरा हाथ में आया।
पड़ी नहीं पहचान , गाल गोपन में भाया।

भावत भावत भाविया ,लारे बचियो एक।
आया हीरा रा पारखी , रोयो मातो टेक।


अब कैसे होवे जग में जीवणो म्हारी हेली ,
लागा शब्द रा तीर ।

घर गया कामण लड़े म्हारी हेली ,
भाई गिणे नहीं भीर ।
ज्यांरा मुरसद घरे नहीं म्हारी हेली ,
नैणां में बरसे नीर ।
अब कैसे । …

कर जोड्या कामण खड़ी म्हारी हेली ,
ओढ़ण बहु रंग चीर ।
सतगुरु मिळिया म्हाने सागड़ी म्हारी हेली ,
आछी बंधाई धीर ॥
अब कैसे । …

काय रे बादळिया री छांवली म्हारी हेली ,
काँई नुगरां री प्रीत ।
काँई रे नाडोल्यां में नावणो म्हारी हेली ,
पड़ियो समद में सीर ॥
अब कैसे । …

हर दरियाव अथंग जळ भरियो हेली ,
हंसा चुगे नित हीर ।
शबद भळाऊ संग ले चलो म्हारी हेली ,
कह गया दास कबीर ।
अब कैसे । …

gopal das vaishnav bhajan video

अब कैसे होवे जग में जीवन हमारी हेली ab kese hove jag me jivno, heli bhajan, gopal das vaishnav bhajan, हेली भजन
भजन:- अब कैसे होवे जग में जीवणो
गायक :- गोपाल दास वैष्णव

Leave a Reply