अब मेरी सुरता भजन में लागी भजन लिरिक्स

। दोहा ।।
मूरख नै समझावतां, ग्यान गांठ रो जाय।
कोो हुवै न ऊजळो, सौ मण साबुण लाय।।

सतगुरु मिलिया पागी ,
अब मारी सुरता भजन मे लागी।

जङी बूटी ओखद कारी ,
दवा दारू सब त्यागी।
तंतर मंतर जंतर सारा ,
लाजी बाजी हम त्यागी।
अब मारी सुरता भजन मे लागी।
सतगुरु ….

पोती पुस्तक ज्योतक सारा ,
बाछ बाछ ने त्यागी।
तीर्थ व्रत नेम रा बधंन ,
सेवा पूजा हम त्यागी।
अब मारी सुरता भजन मे लागी।
सतगुरु ….

कुदरत रा खेल कुदरत से होवे ,
मत भूलो बङभागी।
धीरे धीरे सब कुछ होवे ,
मन री कल्पना त्यागी।
अब मारी सुरता भजन मे लागी।
सतगुरु ….

सतगुरु मिलिया संचय टलिया ,
भेद भ्रम सब भागी।
कहे हेमनाथ सुणो भाई संतों ,
निर्भय हुआ बङभागी।
अब मारी सुरता भजन मे लागी।
सतगुरु ….

धन्ना भारती जी महाराज के भजन | satguru bhajan lyrics video

अब मेरी सुरता भजन में लागी ab meri surta bhajan me lagi हेमनाथ जी भजन
हेमनाथ जी भजन lyrics in hindi
भजन :- मारी सुरता भजन मे लागी
गायक :- धन्ना भारती महाराज

Leave a Reply