अवध से आज मिथला में भजन लिरिक्स Avadh Bhajan Lyrics

अवध से आज मिथला में भजन लिरिक्स|Avadh Se Aaj Mithila Mai Bhajan Lyrics

अवध से आज मिथला में लुटाने प्यार आये है |
अवध से आज मिथला में लुटाने प्यार आये है ||
सजे सेहरे में देखो सांवले सरकार आये है |
अवध से आज मिथला में लुटाने प्यार आये है ||

भर्मर से काली काली तिखरी घूंघर वाली अलको पर |
छटा छहराते मौर के छयल दिलदार आये है |
अवध से आज मिथला में लुटाने प्यार आये है ||

जमीन का ज़र्रा ज़र्रा है नहाया चाँदनी में आज |
कि मिथला काश पूनम चंदा चार आये है |
अवध से आज मिथला में लुटाने प्यार आये है ||

भले दाता जगत के है शिरोमणि दानियो में है |
ग्रहीता आज बन के ये जनक दरबार आये है ||
अवध से आज मिथला में लुटाने प्यार आये है ||

ऋचाये वेद की प्रताप जो सुन कर के अघाते है
वे सुनने रस भरी गारी यहां ससुरार आये है
सजे सेहरे में देखो सांवले सरकार आये है ||

Rajan Ji Maharaj Bhajan Lyrics, Ram Bhajan Lyrics, Youtube Video

Rajan Ji Maharaj Bhajan Lyrics, Ram Bhajan Lyrics,

Leave a Reply