आँगन में आप पधारिये माँ गोरी के ललन भजन लिरिक्स

 Aangan Mai Aap Padhariye Maa Gori Ke Lalan Bhajan Lyrics

आँगन में आप पधारिये माँ गोरी के ललन
प्रथम निम्रंत आप को करते तुम्हे नमन
आँगन में आप पधारिये माँ गोरी के ललन

विगन हरन मंगल के दाता तुम हो सब के भाग्ये विध्याता,
जो गणपति को प्रथम मनाता रिधि सीधी सुख समपती पाता,
पूजे भगवन आप को लागी तेरी लगन
आँगन में आप पधारिये माँ गोरी के ललन

हार चडाऊ फूल चड़ाऊ मोदक मिश्री भोग लगाऊ
चन्दन की चोंकी पे बिठाऊ सु चरणों में शीश झुकाऊ,
सेवा करो सवीकार दास की आये तेरी शरण
आँगन में आप पधारिये माँ गोरी के ललन

मंगल माये शुभ कारी मूरत वर कार में तेरी जरूरत
दिव्य अमित अद्भुत है सूरत तुम से ही होता शुभ मूरत,
तन मन तुझको है अर्पण हर लो मेरे विगन
आँगन में आप पधारिये माँ गोरी के ललन

Aangan Mai Aap Padhariye Maa Gori Ke Lalan Bhajan Lyrics Youtube Video

Ganpati bhajan,गणेश जी के भजनGanesh Bhajan,Ganesh Ji Ke BhajanLord Ganesh, गणेश भगवान  Ganesh Chaturi Bhajan, Gajanan Ji Ke BhajanGanpati Vandna,गणपति वंदना  

This Post Has One Comment

Leave a Reply