ओम शिव ओम शिव रटता जा भजन लिरिक्स

। दोहा ।।
नीकंठ के ीश पर ,बहे निरंतर गंग।
ऐसे प्रभु को देखकर , मन में उठे उमंग।

शिव ॐ शिव ॐ शिव ,
ॐ शिव ॐ शिव रटता जा |
नम: शिवाय नम: शिवाय ,
नम: शिवाय रटता जा।

शिव शंकर कैलाशपति है ,
अंग भभूति रमाते है |
जटाजुठ में गंग बिराजै,
गंगाधर को रटता जा।
नम: शिवाय नम: शिवाय ,
नम: शिवाय रटता जा।
ॐ शिव …..

भांग धतुरा भोग लगत है,
गले सर्पो की माला रे |
नंदी की असवारी सोहे ,
नन्दीश्वर को रटता जा।
नम: शिवाय नम: शिवाय ,
नम: शिवाय रटता जा।
ॐ शिव …..

भष्मासुर को भष्म कराया ,
लीला अपरम्पार तेरी |
मोहिनी रूप बनाया हरी ने,
लीलाधर को रटता जा।
नम: शिवाय नम: शिवाय ,
नम: शिवाय रटता जा।
ॐ शिव …..

भक्ति मंडल थारी महिमा गावे ,
गावै नर और नारी रे |
ऐसे दीनदयाल मेरे दाता ,
भूतनाथ को रटता जा।
नम: शिवाय नम: शिवाय ,
नम: शिवाय रटता जा।

ॐ शिव ॐ शिव ॐ शिव ,
ॐ शिव ॐ शिव रटता जा |
नम: शिवाय नम: शिवाय ,
नम: शिवाय रटता जा।

शिव जी का भजन | shiv ji ke bhajan video

ओम शिव ओम शिव रटता जा भजन om shiv om shiv ratata ja bhajan bholenath bhajan lyrics शिव जी का भजन
शिव जी के भजन लिरिक्स इन हिंदी
भजन :- ॐ शिव ॐ शिव रटता जा
गायक :- सुभाष चंद्र सैनी

Leave a Reply