कहाँ के पथिक कहाँ कीन्ह है गवनवा भजन लिरिक्स

Kaha Ke Pathik Kaha Keenh Hai Gavanva Bhajan Lyrics

कहाँ के पथिक कहाँ कीन्ह है गवनवा
कौन ग्राम के धाम के वासी,
के कारण तुम त्यजो है भवनवा
कहाँ के पथिक कहाँ कीन्ह है गवनवा

उत्तर दे एक नगर अयोध्या,
राजा दशरथ नृप वहाँ है भुवनवा
उन ही के हम दोनों कुंवरवा,
मात वचन सुनि तज्यो है भवनवा
कहाँ के पथिक, कहाँ कीन्ह है गवनवा

राम वधु पूछें सिया से कौन से प्रीतम, कौन देवरवा
सिया मुसकाई बोत मृदु वानी, सांवरो प्रीतम गोरे देवरवा
कहाँ के पथिक कहाँ कीन्ह है गवनवा

तुलसी दास प्रभु आस चरण की,
मेरो मन हर लीन्हो जानकी रमणवा
कहाँ के पथिक कहाँ कीन्ह है गवनवा

Kaha Ke Pathik Kaha Keenh Hai Gavanva Bhajan Lyrics Youtube Video

Bhajan LyricsRam Bhajan Lyrics,राम भजन Shree  Ramchandra  Bhagavan, Lord Ramभगवान राम, Ram Ji Ke BhajanShree Ram,Ramji

This Post Has 3 Comments

Leave a Reply