काई ल्यायो ले जालो बंदा बांध गठरी में भजन लिरिक्स

काई ल्यायो ले जालो बंदा,
बांध गठरी में,
ले ले रामजी को नाम,
कांई डोल मगरूरी म,
कांई ल्यायो ले जालो बंदा,
बांध गठरी म।।

आयो जब तु कांई ल्यायो,
जाव जब तु कांई लेजाव,
दो दिन का भटकेडा खाव,
अंधेर नगरी म,
कांई ल्यायो ले जालो बंदा,
बांध गठरी म।।

आयो जब तु नर तन ल्यायो,
जाव जब सुमरथ ले जाव,
जीवन दो दिन मत अटकाव,
अंधेर नगरी म,
कांई ल्यायो ले जालो बंदा,
बांध गठरी म।।

पाप के खातिर पाप कमायो,
फिर भी यो भर बान म आयो,
डाटो संतोषी को लगा ल,
ई माया की नगरी म,
कांई ल्यायो ले जालो बंदा,
बांध गठरी म।।

तकिया गद्दा नरम लगाव,
फिर क्यों तन नींद न आव,
हजारी गरड गरड गरडावे,
टुटी पोल टपरी म,
कांई ल्यायो ले जालो बंदा,
बांध गठरी म।।

काई ल्यायो ले जालो बंदा,
बांध गठरी म,
ले ले रामजी को नाम,
कांई डोल मगरूरी म,
कांई ल्यायो ले जालो बंदा,
बांध गठरी म।।

Leave a Reply