कालो भेरू कला में खेले भजन लिरिक्स | kalo bheru kala me khele bhajan lyrics

अरे कालो भेरु कला में खेले,
गोरो बीण बजावे ।
माधु पूर की डुंगरीया में ,
भेरू गुमर गाले।
मेरा बावन भीर ,
मेरा गणा हटिला भीर।
उण भेरू का गाओ सैया ,
बावन भीर रे।

अरे कालो मांगे तेल बाखला ,
गोरो गुड़ की भेली।
भेली वेली मे ना जाणु ,
होई सगाणी गेली।
मेरा बावन भीर।
कालो भेरु ….

तेलण लाग्यो मोचण लाग्यो ,
लाग्यो लाली लुहारी।
छोडा चुगती खातण लाग्यो ,
भोग भरे सौ नारी।
मेरा बावन भीर।
कालो भेरु ….

जाटा ने घर भेरू लाग्यो ,
जेठ असाड के सांधे।
टाबर टिबर दुर भगाया ,
चड्डी जाट के कांधे।
मेरा बावन भीर।
कालो भेरु ….

नाया के घर भेरू लाग्यो ,
शीश गुथाबा जावे।
जावे जकी जावे ,
वातो माल पराया खावे।
मेरा बावन भीर।
कालो भेरु ….

ठाकरा ने भेरु लाग्यो ,
ठाकर होग्यो गेलो।
आला तोबा करे तुरकणी ,
देव हिन्दू को लाग्यो।
मेरा बावन भीर।
कालो भेरु ….

कुमारा ने भेरु लाग्यो ,
नीत का गङीया फोङे।
पेले चाबे तेल बाखला ,
फेर चाक ने फेरे।
मेरा बावन भीर।
कालो भेरु ….

नोई कली की सुतण पेरे ,
असी कली को भागो।
आला तोबा करे फिरकणी ,
देव हिन्दू को लाग्यो।
मेरा बावन भीर।
कालो भेरु ….

पद भेरू के पदम बीराजे ,
सीर पर आलम टोपी।
लाल दास गुण महीमा ,
पेरे माणक मोती।
मेरा बावन भीर।
कालो भेरु ….

सांवरमल सैनी भजन | sanwarmal saini bhajan video

कालो भेरू कला में खेले kalo bheru kala me khele भेरुजी भजन bheruji bhajan lyrics सांवरमल सैनी भजन
भेरुजी भजन लिरिक्स in Hindi
भजन :- कालो भेरू कला में खेले
गायक :- सांवरमल सैनी

Leave a Reply