कुलदेवी की पूजा जो करता है दिन रात भजन लिरिक्स

कन्हैया मित्तल भजन कुलदेवी की पूजा जो करता है दिन रात भजन लिरिक्स
स्वर – कन्हैया मित्तल जी।
तर्ज – सावन का महीना।

कुलदेवी की पूजा,
जो करता है दिन रात,
उसके जीवन में होती है,
खुशियों की बरसात।।

हर एक भगत की,
कुलदेवी होती है,
जिसके ही नाम से जलती,
घर में ये ज्योति है,
दुनिया पीछे चलती,
जब कुलदेवी हो साथ,
उसके जीवन में होती है,
खुशियों की बरसात।।

मैया कृपालु है ये,
बड़ी भोली भाली,
यही तो है माँ गौरा,
यही है माँ काली,
रूप अनेको पूजो,
पर कुलदेवी के साथ,
उसके जीवन में होती है,
खुशियों की बरसात।।

मेरी गढ़ी महासर मैया,
साथ मेरे चलती,
भूल जाए उनको गर हम,
ये हमारी गलती,
‘मित्तल’ हरदम तो,
मैया ही रहती साथ,
उसके जीवन में होती है,
खुशियों की बरसात।।

कुलदेवी की पूजा,
जो करता है दिन रात,
उसके जीवन में होती है,
खुशियों की बरसात।।

This Post Has 2 Comments

Leave a Reply