कोई पीवे राम रस प्यासा लिरिक्स

कोई पीवे राम रस प्यासा।
जगत मंडल में अमिरत बरसे,
उन मुन के घर वासा।
कोई पीवे राम रस प्यासा।

शिष उतार धरो गुरू आगे ,
करे नी तन री आशा।
ऐसा मुंगा अमि बिकत है ,
छै रितू बारों मासा।
कोई पीवत राम रस प्यासा।

मौल करे तो थके दूर से ,
तौलत टूटे तासा।
जो पीवे जुग जुग जीवे ,
कदे नी होत विनाशा॥
कोई पीवत राम रस प्यासा।

इण रस काल नृप भया जोगी ,
छोङिया भोग विलाशा ।
कनक सिंहासन धरिया रेवे ,
भस्म रमावे उदियासा ॥
कोई पीवत राम रस प्यासा।

गोरखनाथ भरतरी पीना ,
और कबीर रविदासा ।
गुरू दादू रे चरण कमल में ,
पी गया सुंदर दासा॥
कोई पीवत राम रस प्यासा।

प्रकाश दास जी के भजन | praksh das ji maharaj bhajan video

कोई पीवे राम रस प्यासा लिरिक्स koi pive ram ras pyasa bhajan lyrics रविदास जी के भजन
कोई पीवे राम रस प्यासा bhajan hindi lyrics
भजन :- कोई पीवे राम रस प्यासा
गायक :- प्रकाश दास जी महाराज

Leave a Reply