गुरु मिलिया आत्म राम भजन लिरिक्स

।। दोहा ।।
सतगुरु ऐसा कीजिये , दुखे दुखावे नाही।
पान फूल तोड़े नाही, वे रेवे बगीचा माये।

म्हारा गुरूजी ऐसा,
फूल गुलाबी जैसा।
म्हारे घर में रमता देखिया रे ,
गुरु मिलिया आत्म राम
मिलिया आत्म राम गुरूजी,
मिलिया आत्म राम।
मारी निर्मल हो गई काया रे,
गुरु मिलिया आत्मराम।

इंद्र करे छड़काई,
अरे पवन करे नरमाई।
म्हारे हुआ गुरु रा वासा रे,
गुरु मिलिया आत्म राम।
मिलिया आत्म ….

सूरज चाँद पर वासा,
वे रेहता रे आकाशा।
आ कुदरत खेल रचायो रे,
गुरु मिलिया आत्म राम।
मिलिया आत्म ….

मीठा राम जग माये,
हरी से ध्यान लगाईं।
म्हारा बेड़ा पार उतारो रे,
गुरु मिलिया आतम राम।
मिलिया आत्म ….

म्हारा गुरूजी ऐसा,
फूल गुलाबी जैसा।
म्हारे घर में रमता देखिया रे ,
गुरु मिलिया आत्म राम।
मिलिया आत्म राम गुरूजी,
मिलिया आत्म राम।
मारी निर्मल हो गई काया रे,
गुरु मिलिया आत्मराम।

prakash mali desi bhajan music video song

गुरु मिलिया आत्म राम, Guru Miliya Aatam Ram bhajan lyrics, guru ji bhajan lyrics in hindi
सतगुरु भजन लिरिक्स इन हिंदी
भजन :- गुरु मिलिया आत्मराम
गायक :- प्रकाश माली

Leave a Reply