गुरु म्हारा पारस पवन पथ जीना भजन लिरिक्स

।। दोहा ।।
गुरु मूर्ति मुख चंद्रमा ,सेवक नैनी चकोर।
अष्ट पोर निरकती रहु ,गुरु चरण की और।

गुरु मारा पारस ,पवन पथ जीना ,
सायर वाली दाता लेरा करे।
हंसला री गुरु ग़म हंसलो ही जाने ,
हंस हीरा रा मोल करे। ओजी

गुरु मारा पारस पत्थर ने पूजे ,
पारस संग ले पत्थर तीरे।
पत्थर तीरे वाने प्रेम जल पावे ,
पारस पेला पार करे। ओजी।
गुरु मारा पारस। ……

गुरु मारा पारस बेल ने हाके ,
सत शब्दा वाली हाक करे।
ज्ञान की डोरी ,प्रेम की प्राणी ,
हलकारा सु शाम ढ़ले। ओजी।
गुरु मारा पारस। ……

गुरु मारा पारस हेत वाला हीरा ,
हंस मिलिया गुरु हेत करे।
हंसा रा जोड़े बैठे कागलो ,
कागा ने गुरु हंस करे। ओजी।
गुरु मारा पारस। ……

बादली ज्यू बरसे बिजली ज्यू चमके ,
जर जर जरना नीर जरे।
नीर जरे उठे प्रेम जल लागो ,
पिया पिया का पगत भरे। ओजी।
गुरु मारा पारस। ……

निर्भय राम कनीराम जी मलिया ,
गुरु बल ऊपर दया करे।
भवानी नाथ यो के समजावे ,
आप गुरा ने याद करे। ओजी।
गुरु मारा पारस। ……

गुरु म्हारा पारस पवन पथ जीना भजन लिरिक्सguru mara paras pavan lyrics Bhajan. jagdish vaishnav bhajan Hindi Lyrics

Leave a Reply