जहिया से चली गइले छोड़ अयोध्या भोजपुरी भजन लिरिक्स

जहिया से चली गइले,
छोड़ अयोध्या,
नगर भाईल सुनसान हो,
जा ऐ विधना ऐ का भई,
वन चले गएली सियाराम हो।।

वनवा में ऊ कैसे रहत होई है,
कुश के चटाईया पे सोवत होई है,
कैसे के सोवत होई है सीता महारानी,
सोच सोच बानी परेशान हो,
जा ऐ विधना ऐ का भई,
वन चले गएली सियाराम हो।।

माई के दुलार बिना कैसे ऊ रही है,
भैया भरत के ऊ कैसे समझाई हैं,
मडई में रहत होई है छोड़ के महालिया,
जिंदगी भइल वीरान हो,
जा ऐ विधना ऐ का भई,
वन चले गएली सियाराम हो।।

जहिया से चली गइले,
छोड़ अयोध्या,
नगर भाईल सुनसान हो,
जा ऐ विधना ऐ का भई,
वन चले गएली सियाराम हो।।

भोजपुरी भजन जहिया से चली गइले छोड़ अयोध्या भोजपुरी भजन लिरिक्स

Leave a Reply