जाग रे नर जाग दीवाना भजन लिरिक्स

।। दोहा ।।
सूता – सूता क्या करो , सूता ने आवे नींद ।
जम सिराणे यूं खड़ो , ज्यूं तोरण आयो बींद ।

जाग रे नर जाग दिवाना ,
अब तो मूरख जाग रे ।
काँहि सूतो घन घोर नींद में ,
उठ भजन में लाग रे ।

ध्रुव जी जाग प्रहलाद जी जागा ,
जैसे बन्दा जाग रे ।
ध्रुव जी ने मिलगी असल फकीरी ,
प्रहलादे ने राज रे ।
जाग रे नर। …..

गोरख जाग मच्छेन्दर जागा ,
जैसे मूरख जाग रे ।
वां रो चेलो भरतरी जागो ,
नगर उज्जैनी त्याग रे ।
जाग रे नर।…..

के कोई जागे रोगी भोगी ,
के कोई जागे चोर रे ।
के कोई जागे भगत राम रो ,
लागी राम सूं डोर रे ॥
जाग रे नर।…..

तन सहारा भाई मन कारणां ,
दो दिन का विश्राम रे ।
तन का चोला जद होया पुराणा ,
लागा दान पर दाग रे ॥
जाग रे नर।…..

‘ मीरां केवे प्रभु ऐसी जागी ,
राम नाम रंग लाग रे ।
सतगुरु झेल दया कर दीनी ,
जनम मरण भय भाग रे ।
जाग रे नर।…..

जाग रे नर जाग दीवाना jag re nar jag deewana lyrics, सुनीता स्वामी के भजन, sunita swami ke bhajan, meera bai bhajan lyrics
sunita swami ke bhajan video
भजन :- जाग रे नर जाग दिवाना
गायक :- सुनीता स्वामी वैष्णव

Leave a Reply