जिसको नहीं है बोध गुरु ज्ञान क्या करें भजन लिरिक्स

।। दोहा ।।
अर्घ कपाले झूलता, सो दिन करले याद
जठरा सेती राखिया, नाहि पुरुष कर बाद।

जिसको नही है बोध ,
तो गुरु ज्ञान क्या करे।
निज रूप को जाना नहीं,
तो पुराण क्या करे।

घट घट में ब्रह्मज्योत का,
प्रकाश हो रहा।
मिटा न द्वैतभाव तो,
फिर ध्यान क्या करे।
जिसको नही ….

रचना प्रभू की देख के,
ज्ञानी बड़े बड़े।
पावे ना कोई पार तो,
नादान क्या करे।
जिसको नही ….

करके दया दयाल ने,
मानुष जन्म दिया।
बंदा न करे भजन तो,
भगवान क्या करे।
जिसको नही ….

सब जीव जंतुओं में ,
जिसे है नहीं दया।
‘ब्रह्मानंद’ व्रत नेम,
पुण्य दान क्या करे।

जिसको नही है बोध ,
तो गुरु ज्ञान क्या करे।
निज रूप को जाना नहीं,
तो पुराण क्या करे।

sunita swami bhajan video

जिसको नहीं है बोध गुरु ज्ञान क्या करें jisko nahi hai bodh guru gyan kya kare chetawani bhajan lyrics in hindi
राजस्थानी चेतावनी भजन लिरिक्स
भजन :- तो गुरु ज्ञान क्या करे
गायिका :- सुनीता स्वामी

This Post Has One Comment

Leave a Reply