जीव तू मत करना फिकरी भजन लिरिक्स

।। दोहा ।।
फिकर सभी को खा गया , फिकर है सब की पीर।
फिकर की फाकी करे , उसका नाम फकीर ।

जीव तू मत करना फिकरी ,
जीव तू मत करना फिकरी ।
भाग लिखी सो होय रहेगी ,
भली बुरी सगरी ॥

तप करके हिरणाकुश आयो ,
वर पायो जबरी ।
लौह लकड़ से मर्यो नहीं वो ,
मर्यो मौत नखरी ॥
जीव तू मत । ….

सहस पुत्र राजा सागर के ,
तप कीनो अकरी ।
थारी मती ने थू ही जाणे ,
आग मिली न लकड़ी ॥
जीव तू मत । ….

तीन लोक री माता सीता ,
रावण जाय हरी ।
जब लक्ष्मण ने लंका घेरी ,
लंका गई बिखरी ॥
जीव तू मत । ….

आठ पहर सायब को रटना ,
ना करणा जिकरी ।
कहत कबीर सुणोभाई साधो !
रहणा बे फिकरी ॥
जीव तू मत । ….

shyam vaishnav ke bhajan video

जीव तू मत करना फिकरी jiv tu mat karna fikri, shyam vaishnav ke bhajan, चेतावनी भजन लिरिक्स, chetavani bhajan lyrics
भजन :- जीव तू मत करना फिकरी
गायक :- श्याम वैष्णव

Leave a Reply