झीणी झीणी चांदनी में ओल्यूं आवै रे भजन लिरिक्स

झीणी झीणी चांदनी में,
ओल्यूं आवै रे।

दोहा – काजलियै री रेख स्यूं,
पाती लिखूं सजाए।
आणो व्है तो आन मिलो,
औ जीवन बीत्यो जाए।।

झीणी-झीणी चांदनी में,
ओल्यूं आवै रे, सांवरिया,
झीणी-झीणी चांदनी में,
ओल्यूं आवै रे,
बैरी ना आयो रे,-५
नादान सांवरा,
झीणी-झीणी चांदनी मे,
ओल्यूं आवै रे।।

मिलबा री बेला तांईं,
चूनड़ रंगाई रे,
मैं तो ना ओढूं रे-५,
नादान सांवरा,
झीणी-झीणी चांदनी मे,
ओल्यूं आवै रे।।

मिलबा री बेला तांईं,
नथणि मंगाई रे,
मैं तो ना पेहरु रे-५,
नादान सांवरा,
झीणी-झीणी चांदनी मे,
ओल्यूं आवै रे।।

मिलबा री बेला तांईं,
चुड़लो गढ़ायो रे,
मैं तो ना धारू रे-५,
नादान सांवरा,
झीणी-झीणी चांदनी मे,
ओल्यूं आवै रे।।

“हर्ष” कान्हूड़ा थां री,
सेज सजाई रे,
मैं तो ना पोढूं रे,-५
नादान सांवरा,
झीणी-झीणी चांदनी मे,
ओल्यूं आवै रे।।

झीणी झीणी चांदनी में,
ओल्यूं आवै रे, सांवरिया,
झीणी-झीणी चांदनी में,
ओल्यूं आवै रे,
बैरी ना आयो रे,-५
नादान सांवरा,
झीणी-झीणी चांदनी मे,
ओल्यूं आवै रे।।

Leave a Reply