तुम प्रेम हो तुम प्रीत हो मनमीत हो राधे भजन लिरिक्स

।।दोहा ।।
मुरलीधर की बांसुरी, सुना रही है तान।
घर से निकली राधिका, छोड़ साज- सामान।

तुम प्रेम हो तुम प्रीत हो ,
मेरी बांसुरी का गीत हो।
तुम प्रेम हो तुम प्रीत हो।
मन मीत हो मेरी राधे।

हु मैं यहाँ तुम हो वहा राधा,
तुम बिन नही है कुछ यहा।
मुझमे धडकती हो तुम्ही ,
तुम दूर मुझसे हो कहा।
तुम प्रेम हो तुम प्रीत हो ,
मेरी बांसुरी का गीत हो।

परमात्मा का स्पर्श हो ,
पुलकित हिर्ध्ये का हर्ष हो।
तुम हो समपर्ण का शिखर ,
तुम ही मेरा उत्कर्श हो।
तुम प्रेम हो तुम प्रीत हो ,
मेरी बांसुरी का गीत हो।

हु मैं यहाँ तुम हो वहा राधा,
तुम बिन नही है कुछ यहाँ।
मुझमे धडकती हो तुम्ही ,
तुम दूर मुझसे हो कहा।
तुम प्रेम हो तुम प्रीत हो ,
मेरी बांसुरी का गीत हो।

परमात्मा का स्पर्श हो ,
पुलकित हिर्ध्ये का हर्ष हो।
तुम हो समपर्ण का शिखर ,
तुम ही मेरा उत्कर्श हो।
तुम प्रेम हो तुम प्रीत हो ,
मेरी बांसुरी का गीत हो।

hindi bhajan with lyrics Music video song

तुम प्रेम हो तुम प्रीत हो मनमीत हो राधे भजन tum prem ho tum preet ho radhe krishna bhajan lyrics in hindi
राधा कृष्ण भजन हिंदी लिरिक्स
भजन :- तुम प्रेम हो तुम प्रीत हो
गायक

Leave a Reply