तू शब्दों का दास रे जोगी भजन लिरिक्स

।। दोहा ।।
सबदा मारा मर गया , सबदा छोडियो राज।
जिन जिन सबद विचारिया ,वा रा सरिया काज।

तू शबदों का दास रे जोगी ,
तेरा क्या विश्वास रे जोगी ।
तू शब्दों का दास रे जोगी ।

राम नहीं तू बन पायेगा ,
क्यूं लेता वनवास रे जोगी ॥
तू शब्दों का दास रे जोगी। टेर

ये सांसों का बन्दी जीवन ,
इसको आया रास रे जोगी ॥
तू शब्दों का दास रे जोगी। टेर

देखना इतना ऊपर जाओ ,
ऊँचा है आकाश रे जोगी ।
तू शब्दों का दास रे जोगी। टेर

एक दिन विष का प्याला पीजा ,
फिर ना लगेगी प्यास रे जोगी ।
तू शब्दों का दास रे जोगी। टेर

भर आई थी मन कीआँखें ,
बह रही हर एक आस रे जोगी ॥
तू शब्दों का दास रे जोगी। टेर

moinuddin manchala bhajan Video

तू शब्दों का दास रे जोगी भजन tu shabdo ka das re jogi, moinuddin manchala bhajan, marwadi desi bhajan lyrics, chetawani bhajan
भजन :- तू शब्दों का दास रे जोगी
गायक :- मोइनुद्दीन मनचला

Leave a Reply