तेरो लाल यशोदा छल गयो री भजन लिरिक्स Jaya Kishori Bhajan Lyrics

तेरो लाल यशोदा छल गयो री भजन लिरिक्स | Tero Lal Yashoda Chal Gayo Ri Jaya Kishori Bhajan Lyrics

तेरो लाल यशोदा छल गयो री
मेरो माखन चुरा कर बदल गयो री

मैंने चोरी से इसे मटकी उठाते देखा
आप कहते हुए औरो को खिलते देखा
नाच कर घूम कर कुछ नीचे गिरते देखा
माल चोरी का इसे खूब लुटाते देखा
मेरे मुह पर भी माखन मेल गयो री
तेरो लाल यशोदा छल गयो री

हाथ आता ही नहीं दूर दूर रहता है
चोर है चोर ये चोरी में चूर रहता है
चोरी कर के भी सदा बेक़सूर रहता है
सर पे शैतानी का इस पे फितूर रहता है
मेरे माखन की मटकी उदल गयो री
तेरो लाल यशोदा छल गयो री

हस कर मांगता है और कभी रोता है
अपने हाथो से दही आप ही बिलोता है
ये दिन पे दिन भला क्यों इतना हटी होता है
न दो तो धुल में लौटता और सोता है
मेरो आँचल पकड़ कर मचल गयो री
तेरो लाल यशोदा छल गयो री

इसे समझ दे यशोदा ये तेरा बेटा है,
चोर ग्वालो का एक ये ही चोर नेता है,
मार पड़ती है और ये मजा लेता है
इसके बदले में जरा बंशी बज देता है,
जाया मोती कान्हा की शरण गयो री,
तेरो लाल यशोदा छल गयो री

Youtube Video

Leave a Reply