थारी काया रो गुलाबी रंग उड़ जासी भजन लिरिक्स

॥ दोहा ॥
माटी कहे कुम्हार से , तू क्यों रोंदे मोय ।
एक दिन ऐसा आयेगा , मैं रोंदूंगी तोय ॥

थारी काया रो गुलाबी रंग उड़ जासी ।
उड़ जासी रे फीको पड़ जासी ,
थारी काया रो गुलाबी रंग उड़ जासी ।

हरा हरा रूंखड़ा ऊगवा रे बाद में ,
पान फूल एक दिन झड़ जासी ॥
थारी काया रो गुलाबी रंग उड़ जासी ।

सूरज ऊगियो दोपारां ने तपीयो ,
सांझ पड्या सूरज ढळ जासी ॥
थारी काया रो गुलाबी रंग उड़ जासी ।

रैण बसेरो पंछी कीनो ,
भोर भई रे पंछी उड़ जासी ।
थारी काया रो गुलाबी रंग उड़ जासी ।

जग सरकस है देख मेरा भाई ,
खेल खतम हुआ पछे घर जासी ॥
थारी काया रो गुलाबी रंग उड़ जासी ।

ओ तन है भाई पाणी रो पतासो ,
पाणी रो पतासो बीरा गळ जासी ।
थारी काया रो गुलाबी रंग उड़ जासी ।

कहे देवीदास श्री भजन करो भाई ,
धरम कमाई थारे सागे जासी ।।
थारी काया रो गुलाबी रंग उड़ जासी ।

moinuddin manchala ke bhajan Video

थारी काया रो गुलाबी रंग उड़ जासी thari kaya ro gulabi rang ud jasi, moinuddin manchala ke bhajan, चेतावनी भजन, chetawani bhajan
भजन :- थारी कायारो गुलाबी रंग
गायक :- मोइनुद्दीन मनचला

Leave a Reply