दरगाह में अरजी सुणावां भजन लिरिक्स

दरगा में अरज सुणा वां ,
रूणीचा वाळा रामदे पधारो
रामदे पधारो म्हारा पीर जी पधारो ।
चौखट पे ीश नमावां ,
रूणीचा वाळा रामदे पधारो ।।

द्वारका रा नाथ बाबा ,
आप कहावो ।
भगतां रा दुखड़ा थे तो ,
में मिटावो ।
दीनबंधु हो दयावाला ,
रूणीचा वाळा रामदे पधारो ॥
दरगाह में अरजी। ….

बाणिया रो हेलो सुण ने ,
पग पाळा आया ।
बेडो लगायो पार ,
प्राण बचाया ।
साँचाधणी हो रूखाळा ,
रूणीचा वाळा रामदे पधारो ।
दरगाह में अरजी। ….

लखी बिणजारो थारो ,
परचो है पायो ।
मिसरी रो पल में माधव ,
लूण बणायो ।
मोटा हो लीले घोड़े वाळा ,
रूणीचा वाळा रामदे पधारो ।।
दरगाह में अरजी। ….

मक्का सूं पीर थाने ,
परखण आया ।
कटोरा तो भोजन वाळा ,
लारे भूल आया ।
पल में थे कटोरा मंगाया ,
रूणीचा वाळा रामदे पधारो
दरगाह में अरजी। ….

दास अशोक बाबा ,
अरजी सुणावे ।
चरणां री चाकरी में ,
सब सुख पावे ।
तोड़ो भवबंधन वाला ताळा ,
रूणीचे वाळारामदे पधारो ॥
दरगाह में अरजी। ….

दरगाह में अरजी सुणावां, dargah me arz sunava bhajan lyrics, ramdev ji ka bhajan, baba ramdev ji bhajan, moinuddin manchala bhajan

Leave a Reply