दरश दिखा दो ना कन्हैया भजन लिरिक्स

दरश दिखा दो ना कन्हैया,
दरस दिखा दो ना,
कि जन्मों से आस लगी,
अब तुम चले आओ ना,
दरस दिखा दो ना गिरधारी,
दरस दिखा दो ना,
कि जन्मों से आस लगी,
अब तुम चले आओ ना।।

तुमको ही चाहूँ,
तुमको ही पूजूँ,
और किसी को ना,
इस दिल में बसाऊं,
और किसी को ना,
इस मन में बसाऊं,
शरण तिहारी हूँ कन्हैया,
शरण तिहारी हूँ,
कि जन्मों से आस लगी,
अब तुम चले आओ ना।।

तुम हो अनाथ के,
नाथ गोसाईं,
दीनन के हो तुम,
सदा ही सहाई,
कष्टों को मिटा दो ना कन्हैया,
कष्टों को मिटादो ना,
कि जन्मों से आस लगी,
अब तुम चले आओ ना।।

दरश दिखा दो ना कन्हैया,
दरस दिखादो ना,
कि जन्मों से आस लगी,
अब तुम चले आओ ना,
दरस दिखा दो ना गिरधारी,
दरस दिखादो ना,
कि जन्मों से आस लगी,
अब तुम चले आओ ना।।

कृष्ण भजन दरश दिखा दो ना कन्हैया भजन लिरिक्स
तर्ज – हुस्न पहाड़ों का।

Leave a Reply