दुनिया मतलब री मारा संतो भजन लिरिक्स

॥ दोहा ॥
आधी रैन निकसी गई , जगत गया सब सोय ।
जिनको चिन्ता पीव की , नींद कहाँ से होय ॥

दुनियाँ मतलब की रे म्हारा संतों ,
दुनियाँ मतलब की ।
थोड़ी अबे म्हाने ,
खबर पड़ी रे म्हारा संतों ,
दुनियाँ मतलब की ।

एक डाल दो पंछी बैठा ,
बोले हरी हरी ।
टूटी डाल ने उड़ गया पंछी ,
आ केड़ी प्रीत करी रे म्हारा संतों ।
दुनियाँ मतलब । …..

जब लग बैल चले घाणी में ,
तब लग सार घणी ।
बूढ़ा हुआ पछे सार नहीं पूछे ,
अरे डोले अळी गळी रे म्हारा संतों ॥
दुनियाँ मतलब । …..

जब लग तेल दिए में बतियाँ ,
तब लग जोत घणी ।
जळ गया तेल ने बुझ गई बतियों ,
घोर अंधार भई रे म्हारा संतों ।
दुनियाँ मतलब । …..

जो तू चावे जग में जीणो ,
भज ले हरी – हरी ।
कहत कबीर सुणो रे भाई संतों ,
बिल्कुल बात खरी रे म्हारा संतों ॥
दुनियाँ मतलब । …..

prakash mali ke bhajan video

दुनिया मतलब री मारा संतो duniya matlab ri mara santo bhajan, prakash mali ke bhajan, satguru bhajan lyrics in hindi जन :- दुनियाँ मतलब की रे
गायक :- प्रकाश माली

Leave a Reply