धिन माता धिन धरती भजन लिरिक्स

॥ दोहा ॥
धरती माता सुहागणी , इन्दर सो भरतार ।
पेरण लीलो काँचवो , ओढण मेघ मलार ॥

धिन माता धिन धरती ,
थने कदे नी देखी फिरती ।
धिन माता धिन धरती ॥

धरती रो धणियाप करन्ता ,
कई नर हो गया आगे ।
कुम्भकरण और रावण जेड़ा ,
गया गडिन्दा खाता ॥

भीम सरीखा बलवन्त जोधा ,
नित उठ लड़ता कुश्ती ओ ।
हिमाळा में हाड गालियो ,
तोई नी आई सोमवन्ती ॥

नाव तो नावड़ियाँ चाले ,
नदियाँ चाले गुड़ती ।
चाँद सूरज सरोदे चाले ,
नखतर चाले फिरता ।

देवनाथ गुरु पूरा मिलिया ,
सतगुरु मिलिया समरथी ।
राजामान कहे सुणो भाई साधो !
जागी जोत भभकती ॥

moinuddin manchala ke bhajan Video

धिन माता धिन धरती dhin tana dhin dharti bhajan lyrics, chetavani bhajan, moinuddin manchala ke bhajan, चेतावनी भजन
भजन :- धिन माता धिन धरती
गायक :- मोइनुद्दीन मनचला

Leave a Reply