नबजिया वैद क्या जाणे हमें दिल कि बीमारी है भजन लिरिक्स

नबजिया वैद क्या जाणे,
हमें दिल कि बीमारी है।।

कभी कफ रोग बतलाये,
कभी तासीर गरमी की,
जिगर का हाल तू मेरा,
नहीं जाने अनाडी है,
नबजिया वैद क्या देखे,
हमें दिल कि बीमारी है।।

सनम कि मोहिनी मूरत,
बसी दिल बीच में मेरे,
न मन में चैन है तन की,
खबर सारी बिसारी है,
नबजिया वैद क्या देखे,
हमें दिल कि बीमारी है।।

असर करती नहीं कोई,
दवाई कीमती तेरी,
बिना दीदार दिलबर के,
मिटे नहीं बेकरारी है,
नबजिया वैद क्या देखे,
हमें दिल कि बीमारी है।।

अगर दीदार को मेरे,
मिलावे तू कभी मुझसे,
वो ब्रह्मानंद गुण तेरा,
करूँ मैं यादगारी है,
नबजिया वैद क्या देखे,
हमें दिल कि बीमारी है।।

नबजिया वैद क्या जाणे,
हमें दिल कि बीमारी है।।

भजन नबजिया वैद क्या जाणे हमें दिल कि बीमारी है भजन लिरिक्स

Leave a Reply