पंचपरमेष्ठी – जैन आरती लिरिक्स | Panchparmeshthi Jain Aarti Lyrics | Ehi Vidhi Mangal Aarti Kije

पंचपरमेष्ठी – जैन आरती लिरिक्स | Panchparmeshthi Jain Aarti Lyrics | Ehi Vidhi Mangal Aarti Kije

यह विधि मंगल आरती कीजै,
पंच परम पद भज सुख लीजै।

प्रथम आरती श्री जिनराजा,
भवदधि पार उतार जिहाजा ॥ यह विधि ॥

दूजी आरती सिद्धन केरी,
सुमरत करत मिटे भव फेरी ॥ यह विधि ॥

तीजी आरती सूर मुनिंदा,
जनम-मरण दुःख दूर करिंदा ॥ यह विधि ॥

चौथी आरती श्री उवझाया,
दर्शन करत पाप पलाया ॥ यह विधि ॥

पाँचवीं आरती साधु तुम्हारी,
कुमति विनाशन शिव अधिकारी ॥ यह विधि ॥

छठी ग्यारह प्रतिमा धारी,
श्रावक बंदू आनंद कारी ॥ यह विधि ॥

सातवीं आरती श्री जिनवाणी,
धानत स्वर्ण मुक्ति सुखदानी ॥ यह विधि ॥

संजा करके आरती कीजे,
अपनो जनम सफल कर लीजे ॥ यह विधि ॥

सोने का दीपक, रत्नों की बाती,
आरती करूँ मैं, सारी-सारी राती ॥ यह विधि ॥

जो कोई आरती करे करावे
सो नर-नारी अमर पद पावे ॥ यह विधि ॥

 Video

This Post Has One Comment

Leave a Reply