पधारो शबरी की मेहमान भजन लिरिक्स Mehmaan Bhajan Lyrics

पधारो शबरी की मेहमान भजन लिरिक्स| Padharo Shabri Ke Mehmaan Bhajan Lyrics

शबरी की मेहमान पधारो ||
शबरी की मेहमान पधारो ||

बिना प्रेम दुर्योधन की ग्रह |
छोड़ चले पकवान ||

रूखे साग बिदुर घर खायो |
प्रेम शहित सुख मान ||
पधारो शबरी की मेहमान ||

पधारो शबरी की मेहमान ||

द्रुपद सुता की लाज बचाई |
मध्य सभा में आय ||

खीचत चीर दुशाष्ण हारा |
चूर कियो अभिमान ||

पधारो शबरी की मेहमान ||

जल डूबत गजराज उबारे |
तात शब्द सुन कान ||
सारथि पद पारथ रथ हाक्यो |
समर भूमि मैदान ||

पधारो शबरी की मेहमान ||

गणिका गीध अजामिल पापी |
तारे अधम महान ||
भिक्छु अति है शरण तुम्हारी |
मीरा के भगवान ||

पधारो शबरी की मेहमान ||

शबरी की मेहमान पधारो ||
शबरी की मेहमान ||

पधारो शबरी की मेहमान ||

Shabri Bhajan, Ram Shabri Bhajan Lyrics,Padharo Shabri Ke Mehman Bhajan  Video

Shabri Bhajan, Ram Shabri Bhajan Lyrics,Padharo Shabri Ke Mehman Bhajan Lyrics, Rajan Ji Maharaj Bhjan Lyrics, Rajan Ji maharaj, Ram Bhajan, Ram Bhajan Lyrics

This Post Has One Comment

Leave a Reply