पहचान सके तो पहचान घट घट में बसे है भगवान भजन लिरिक्स

पहचान सके तो पहचान घट घट में बसे है भगवान भजन लिरिक्स
राजस्थानी भजन पहचान सके तो पहचान घट घट में बसे है भगवान
पेहेचान सके तो पहचान/Shyamniwas bhajan

पहचान सके तो पहचान,
घट घट में बसे है भगवान।।

चंदा की चांदनी,
सूरज की रोशनी,
तारो की झील मिलजन,
जिनकी शोभा अगम अपार,
घट घट में बसे है भगवान,
पेहचान सके तो पेहचान,
घट घट में बसे है भगवान।।

बिना रे सत के चले ना धरती,
बिन थंभे आसमान,
जिनकी महिमा वरणी न जाय,
घट घट में बसे है भगवान,
पेहचान सके तो पेहचान,
घट घट में बसे है भगवान।।

राम बिना मेरी सुनी अयोद्धया,
बिन राधा घनश्याम,
जिनकी शोभा वरणी न जाय,
घट घट में बसे है भगवान,
पेहचान सके तो पेहचान,
घट घट में बसे है भगवान।।

तुलसी दास आश रघुवर की,
थारो जन्म सफल हो जाय,
घट घट में बसे है भगवान,
पेहचान सके तो पहचान,
घट घट में बसे है भगवान।।

पहचान सके तो पहचान,
घट घट में बसे है भगवान।।

मेरे दिल को चुराए जाए कजरारे तेरे नैन भजन लिरिक्स

हारे का तू बनके सहारा आ जाता भजन लिरिक्स

फागुण में तेरे नाम की मस्ती छाई है भजन लिरिक्स

This Post Has One Comment

Leave a Reply