पियाजी री वाणी मत बोल भजन लिरिक्स

॥ दोहा ॥
प्रीतम प्रीत लगाय के , तुम दूर देश मत जाय ।
बसो हमारी नगरी में , हम मांगे तुम खाय ॥

जो कोई पियाजी री प्यारी सुणे रे ,
देवे थारी चोंच मरोड़ ।
पपइया , पियाजी री वाणी मत बोल ॥

चोंच कटाऊं , पपइया थारी रे ,
ऊपर घालू लूण ।
पिवजी म्हारा मैं पिया री ,
थू कुण केवण वालो पपइया ,
पियाजी री वाणी मत बोल ॥

थारा वचन सुहावणा रे ,
पिव – पिव करे है पुकार ।
चोंच मढाऊं थारी सोवणी रे ,
थू म्हारे सिर रो मोड़ पपइया ,
पियाजी री वाणी मत बोल ॥

म्हारा पियाजी ने पतियां भेजूं रे ,
सुध – बुध लेवण आय ।
जाय पियाजी ने यूं कहिजे रे ,
ब्रेहणी धान न खाय पपइया ,
पियाजी री वाणी मत बोल ॥

मीरांदासी व्याकुल भई रे ,
पिव – पिव करे है पुकार ।
बेगा मिलो रे म्हारा अन्तर्यामी ,
तुम बिन रयो नहीं जाय पपइया ,
पियाजी री वाणी मत बोल ।।

प्रकाश माली का भजन Video

पियाजी री वाणी मत बोल piyaji ri vani mat bol bhajan lyrics, meera bai bhajan lyrics,meera bai ke bhajan,प्रकाश माली का भजन
भजन :- पियाजी री वाणी मत बोल
गायक :- प्रकाश माली

Leave a Reply