पैदल चलता चलता जय बोलो भजन लिरिक्स

पैदल चलता चलता जय बोलो ,
वांकल महाराणी की ।
वांकल महाराणी की ,
जयजय अम्बे राणी की ।

वीरातरा में वांकल माँरो ,
मिन्दर बणियो भारी ।
हिरण डूंगरी आप विराजे ,
पूजे दुनियाँ सारी ॥
पैदल चलता। ….

वीर विक्रमा दित्य आपरो ,
देवळ है चुणवायो ।
भीयंड़ जीने माँ जगदम्बा ,
दर्शन आप दिखलायो ।
पैदल चलता। ….

दूर – दूर सूं दर्शण करवा ,
लोग घणेराआवे ।
धूप दीप सू करे आरती ,
चरणां शीश नवावे ॥
पैदल चलता। ….

बांझड़ियां ने बेटा देवे ,
निर्धनियां धन पावे ।
माँ वांकल रे द्वारे सारा ,
मनचाया फळ पावे ॥
पैदल चलता। ….

वांकल माता थांरी महिमा ,
दास अशोक सुणावे ।
निज चरणां में चाकर राखो ,
चरणां में सुख पावे ॥
पैदल चलता। ….

पैदल चलता चलता जय बोलो,pedal chalta chalta jai bolo, vankal mata bhajan,mata ke bhajan lyrics,mata ji ke bhajan lyrics,jagdish vaishnav ke bhajan

Leave a Reply