प्यारी लागे माताजी री चुनड़ी भजन लिरिक्स

।। दोहा ।।
गंगा जमना सरस्वती ,भगीरथ रे भाव।
मृत्यु लोक में गंगा लायो ,तप ने एकण पाँव।

घणा कोड सूं लायो ,
म्हें तो लायो चुनड़ी ।
प्यारी लागे ओ ,
माता जी री चुनड़ी ।

जसोल नगरी में ,
धाम हैं प्यारो ।
लाल कसूंबल माता ,
ओढो चुनरी ॥
प्यारी लागे ओ ,
माता जी री चुनड़ी ।

सोना रूपा रा ,
तार चुनड़ी रे माँहि ।
सिर पर माता ,
थारे चमके चुनड़ी ।
प्यारी लागे ओ ,
माता जी री चुनड़ी ।

भगत माता जी थारी ,
चुनड़ी रंगाई ।
हीरा पन्ना सु ,
चम – चम चमके चुनड़ी ।
प्यारी लागे ओ ,
माता जी री चुनड़ी ।

चुनड़ी री छाया माताजी ,
राखो भगतां पर ।
दास प्रकाश थारी ,
गाई चुनड़ी ॥
प्यारी लागे ओ ,
माता जी री चुनड़ी ।

प्यारी लागे माताजी री चुनड़ी pyari lage mataji ri chunri,mata ji ke bhajan lyrics, mata ke bhajan with lyrics, marwadi desi bhajan lyrics

This Post Has One Comment

Leave a Reply