प्रभु जी मेरे अवगुण चित ना धरो लिरिक्स

।। दोहा ।।
राम किसी को मारे नहीं ,और नहीं पापी राम।
अपने आप मर जीवसी , कर कर खोटा काम।

प्रभुजी मेरे अवगुण चित न धरो।
समदर्शी है नाम तिहारो ,
चाहे तो पार करो।

एक लोहा पूजा में राखत ,
एक घर बधिक परो।
सो दुविधा पारस नहीं जानत ,
कंचन करत खरो।
प्रभुजी मेरे ….

एक नदिया एक नार कहावत ,
मैलो नीर भरो ।
जब मिलि दोनों एक बरन भये ,
सुरसरि नाम परो ।
प्रभुजी मेरे ….

एक माया एक ब्रह्मा कहावत ,
सूरदास झगरो।
अबकी बार मोहे पार लगाओ ,
नहीं प्रण जात टरो।
प्रभुजी मेरे ….

marwadi desi bhajan video

प्रभु जी मेरे अवगुण चित ना धरो लिरिक्स prabhu ji mere avgun chit na dharo सूरदास जी के भजन
भजन :- प्रभुजी मेरे अवगुण चित न धरो
गायिका :- कविता कृष्णामूर्ति

Leave a Reply