प्रेम के बंधन में मोहन बंध गए भजन लिरिक्स | Bhajan Lyrics

प्रेम के बंधन में मोहन बंध गए
प्रेमियों ने जो बनाया बन गए
प्रेम के बंधन में मोहन बंध गए

जान मीरा की ना राणा ले सका
ज़हर भेजे थे तो अमृत बन गए
प्रेम के बंधन में मोहन बंध गए
प्रेमियों ने जो बनाया बन गए

भाट नरसिंह भक्त का तुमने भरा
वृंदावन के सेठ श्यामल बन गए
प्रेम के बंधन में मोहन बंध गए
प्रेमियों ने जो बनाया बन गए
प्रेम के बंधन में मोहन बंध गए

प्रेम से परिपूर्ण जिसने दिल दिया
बिक गए बिन दाम चाकर बन गए
प्रेम के बंधन में मोहन बंध गए
प्रेमियों ने जो बनाया बन गए
प्रेम के बंधन में मोहन बंध गए

भाव तुलसीदास का पूरा किया
मुरली छोड़ के धनुषधारी बन गए
प्रेम के बंधन में मोहन बंध गए
प्रेमियों ने जो बनाया बन गए

prem ke bandhan me mohan bandh gaye premio ne jo banaya ban gaye भजन लिरिक्स | Bhajan Lyrics

prem ke bandhan me mohan bandh ge
premiyon ne jo banaaya ban ge
prem ke bandhan me mohan bandh ge

jaan meera ki na raana le sakaa
zahar bheje the to amarat ban ge
prem ke bandhan me mohan bandh ge
premiyon ne jo banaaya ban ge

bhaat narasinh bhakt ka tumane bharaa
vrindaavan ke seth shyaamal ban ge
prem ke bandhan me mohan bandh ge
premiyon ne jo banaaya ban ge
prem ke bandhan me mohan bandh ge

prem se paripoorn jisane dil diyaa
bik ge bin daam chaakar ban ge
prem ke bandhan me mohan bandh ge
premiyon ne jo banaaya ban ge
prem ke bandhan me mohan bandh ge

bhaav tulaseedaas ka poora kiyaa
murali chhod ke dhanushdhaari ban ge
prem ke bandhan me mohan bandh ge
premiyon ne jo banaaya ban ge
prem ke bandhan me mohan bandh ge

prem ke bandhan me mohan bandh ge
premiyon ne jo banaaya ban ge
prem ke bandhan me mohan bandh ge

Watch bhajan Music video

Leave a Comment