फकीरी जीवत धुके रे मसाण भजन लिरिक्स | fakiri jivat dhuke re masan bhajan lyrics

।। दोहा ।।
आधी रेन निकल गई ,जगत गया सब सोय।
जाको चिंता पीव की , नींद कहा से होय।

फकीरी जीवत धुके रे मसाण ,
कर लेवो निज साय।
जीवत धुके रे मसाण ,
फकीरी जीवत धुके रे मसाण।

छ दर्शन छतीसो पाखंड ,
मचरही खेचा ताण।
उलट पड़े आ युद्ध के माहि ,
जद पडेली जाण।
फकीरी जीवत …..

शीश काट लड़े कोई सूरा ,
धड़ से जूझे आण।
आठो पहर सोहलवा गावे ,
जद पूछे परयाण।
फकीरी जीवत …..

अनंत कोट साधु जन तापे ,
नो नाधा कर जाण।
सूरा तप सहे इण जप को ,
कायर तज देवे प्राण।
फकीरी जीवत …..

अगम निगम दो वाणी जुग में ,
ऊबी करे बखाण।
राजा प्रजा दर्शन को आवे ,
धिन जोगी थारो भाव।
फकीरी जीवत …..

ब्रह्म मिलन का पट्टा लिखाया ,
दिन बिच उग्यो भान।
हरिराम बैरागी बोले ,
सतगरु मिलिया सुजान।
फकीरी जीवत …..

madan puri ka bhajan video

फकीरी जीवत धुके रे मसाण fakiri jivat dhuke masan फकीरी भजन मारवाड़ी madan puri ka bhajan जोग फकीरी का भजन
फकीरी भजन मारवाड़ी lyrics in Hindi
भजन :- फकीरी जीवत धुके रे मसाण
गायक :- मदन पुरी

Leave a Reply