बाबा अमरनाथ महादेव थाने खम्मा घणी भजन लिरिक्स

बाबा अमरनाथ महादेव,
थाने खम्मा घणी,
थे हो ऊंचा पर्वत वासी,
थाने खम्मा घणी,
पर्वत चढता चढता बोलो,
हर हर हर महादेव जी,
नाम लेवो धणीया रो एतो,
पूर्ण होवे सब काज जी,
बाबा अमरनाथ महादेंव,
थाने खम्मा घणी,
थे हो ऊंचा पर्वत वासी,
थाने खम्मा घणी।।

बोले शिवजी सुनलो पार्वती,
अमर कथा मे सुनावु जी,
बोले ए शिवजी सुनलो पार्वती,
अमर कथा मे सुनावु जी,
आप हुंकारा देवो गवर्जा,
मै सुनावु सब बात जी,
शिवजी कथा सुनावे एतो,
नींद आ जावे गवरा मात जी,
देवे हुंकारो ओतो सुओ,
सुखदेव मुनी हो जाय जी,
बाबा अमरनाथ महादेंव,
थाने खम्मा घणी,
थे हो ऊंचा पर्वत वासी,
थाने खम्मा घणी।।

अमरनाथ बर्फानी बाबा,
रटू नाम दिन रात जी,
अमरनाथ बर्फानी बाबा,
रटू नाम दिन रात जी,
सेवक जाणे दर्शन दीजो,
आयो थारे दरबार जी,
मापर मेहर करो शिव भोले,
देवा के महादेव जी,
दुनिया दर्शन आवे थारे,
निवन करे नर नार जी,
बाबा अमरनाथ महादेंव,
थाने खम्मा घणी,
थे हो ऊंचा पर्वत वासी,
थाने खम्मा घणी।।

सावन मास मे मेलो लागे,
गूंजे जयकारा चारो खूट जी,
सावन मास में मेलो लागे,
गूंजे जयकारा चारों खूट जी,
जय बाबा री अमरनाथ की,
बोले नर ओर नार जी,
भर पानी बाबा थारी महिमा,
वरणी न जावे आज जी,
शिव लिंग रा जो दर्शन करले,
जन्म सफल हो जाय जी,
बाबा अमरनाथ महादेंव,
थाने खम्मा घणी,
थे हो ऊंचा पर्वत वासी,
थाने खम्मा घणी।।

भांग धतुरा भोग लगावु,
जीमो थे भोले नाथ जी,
भांग धतुरा भोग लगावु,
जीमो थे भोले नाथ जी,
अमिया गवर्जा भर भर लावे,
पिलो थे भोलेनाथ जी,
गणेश कार्तिक थाने मनावे,
नारद शारद साथ जी,
नंदी बाबा थारा गुण गावे,
सुमर सुमर भव पार जी,
बाबा अमरनाथ महादेंव,
थाने खम्मा घणी,
थे हो ऊंचा पर्वत वासी,
थाने खम्मा घणी।।

देवा मे महादेव कहावो,
अमरनाथ महादेव जी,
देवा मे महादेव कहावो,
अमरनाथ महादेव जी,
जग में महिमा वरणी न जावे,
बरफानी उस नाथ की,
‘माली भूरजी’ सेवक थारो,
थाने अरज सुनाय जी,
श्याम पालीवाल’ थारा गुण गावे,
थारा चरना माय जी,
बाबा अमरनाथ महादेंव,
थाने खम्मा घणी,
थे हो ऊंचा पर्वत वासी,
थाने खम्मा घणी।।

बाबा अमरनाथ महादेव,
थाने खम्मा घणी,
थे हो ऊंचा पर्वत वासी,
थाने खम्मा घणी,
पर्वत चढता चढता बोलो,
हर हर हर महादेव जी,
नाम लेवो धणीया रो एतो,
पूर्ण होवे सब काज जी,
बाबा अमरनाथ महादेंव,
थाने खम्मा घणी,
थे हो ऊंचा पर्वत वासी,
थाने खम्मा घणी।।

राजस्थानी भजन बाबा अमरनाथ महादेव थाने खम्मा घणी भजन लिरिक्स

Leave a Reply