बेगा आवो जी गजानंद रमता आवो जी भजन लिरिक्स

बेगा आवो जी गजानंद,
रमता आवो जी,
देवा जागण भारी जगावाजी,
थे बेगा आवोजी।।

रणत भँवर सु आवो,
संग रिधिया सीदीया लावो,
रणत भँवर सु आवो,
संग रिधिया सीदीया लावो,
संग शुभ ओर लाभ पधारो जी,
थे बेगा आवोजी।।

शिव शंकर पिता केवाया,
पार्वता गोद खिलाया,
शि वशंकर पिता केवाया,
पार्वता गोद खिलाया,
हो देवा घर घर आप पुजाया जी,
थे बेगा आवोजी।।

पान सुपारी चढावा,
लड्डूअन.रो भोग लगावा,
पान सुपारी चढावा,
लड्डूअन.रो भोग लगावा,
देवा रूस-रुस भोग लगावो जी,
थे बेगा आवोजी।।

बाई मीरा जस गावे,
शरणा मे शिश नवावे,
बाई मीरा जस गावे,
शरणा मे शिश नवावे,
मारो बेडो पार लगावो जी,
थे बेगा आवोजी।।

बेगा आवो जी गजानंद,
रमता आवो जी,
देवा जागण भारी जगावाजी,
थे बेगा आवोजी।।

राजस्थानी भजन बेगा आवो जी गजानंद रमता आवो जी भजन लिरिक्स

Leave a Reply