भोले बाबा का रूप निराला भजन लिरिक्स

।। दोहा ।।
शिव समान दाता नहीं,और विपत विदारण हार।
लजिया मोरी राखियो, शिव नंदी के असवार।

भोले बाबा का रूप निराला।
गले में नाग काला,
लहराए चले आए रे।

भोले अंग पे भभूत रमाई ,
तूने जटा से गंगा बहाई।
तेरे हाथो में विष का प्याला,
है कैलाश पे वासा।
लहराए चले आए रे।
भोले बाबा …..

भोले शीश जटा में चंदा रे,
चमके कोटि थारे प्रकाशा रे।
तन पे है मृगछाला,
गले में रुद्रमाला।
लहराए चले आए रे।
भोले बाबा …..

भोले महिमा का खेल निराला रे,
भोले भक्तो का करे निस्तारा रे।
तेरे संग में भूतन का तोड़ा,
लागे गजब रा दौड़ा।
लहराए चले आए रे।
भोले बाबा …..

भोले शंकर रूप बणायो रे ,
तूने तांडव नृत्य रचायो रे।
तेरे भक्त गाए गुण थारा,
भक्तो रा रखवाला।
लहराए चले आए रे।

भोले बाबा का रूप निराला।
गले में नाग काला,
लहराए चले आए रे।

prakash mali ke bhajan music vidoe song

भोले बाबा का रूप निराला भजन, bhole baba ka roop nirala bholenath bhajan lyrics in hindi
शिव शंकर भजन लिरिक्स
भजन :- भोले बाबा का रूप निराला
गायक :- प्रकाश माली

Leave a Reply