मतवाला गुरु मतवाला सत अमरापुर है वाला भजन लिरिक्स

। दोहा ।।
सतगुरु के दरबार में ,नर जावे बारम्बार।
भूी वस्तु बतावसी , मेरा सतगुरु है दातार।

मतवाला गुरु मतवाला ,
सत अमरापुर है वाला।

पहली देव गणेश मनावा ,
सिमरा मात जवाला ने।
वाणी बोल अणभय का उपजें ,
हिर्दय में हो उजियाला।
मतवाला ….

इंद्र घटा सु मारा सतगुरु आया ,
बरसत आया गुरु घनघोरा।
झीनी झीनी बूंदा गुरु जड़ी लगा दी ,
भय दिया है तन सारा।
मतवाला ….

ज्ञान बादली गुरां जी के घट मे ,
बरस रही चहुँ निश धारा।
वचन वचन इन्दर ज्यू गरजे ,
आठ पहर दिन है सारा।
मतवाला ….

गुरां की महिमा अमी किसी बूंदा ,
बोल गंगा का है धारा।
सुणीयाँ का पाप कटे भव भव का ,
काया कंचन तन सारा।
मतवाला ….

सोहनपूरी है सुथायन में बासा ,
श्वेत वरण रंग है बांका।
शिखर किले पर ध्वजा फरुके ,
वहां रम रया गुरु मतवाला।
मतवाला ….

अमृतनाथ मिल्या गुरु पूरा ,
खोल्या भरम का वे ताला।
मग्गो महिमा गुरांजी की गावे ,
गाँव गुमाने है वाला।
मतवाला ….

गुलाब नाथ जी का भजन | gulab nath ji bhajan video

मतवाला गुरु मतवाला सत अमरापुर है वाला, matwala guru matwala guru ji bhajan lyrics gulab nath ji bhajan
सतगुरु के भजन lyrics in Hindi
भजन :- मतवाला गुरु मतवाला
गायक :- गुलाब नाथ जी महाराज

This Post Has One Comment

Leave a Reply