मना थारी उमर जावे रे भजन लिरिक्स

॥ दोहा ॥
माया काया पांवणी , और कन्या घर होय ।
राख्योड़ी रेवे नहीं , ए ऊठ चले पथ खोय ॥

मना थारी उमर जावे रे ,
मना थारी उमर जावे रे ।
आछा दिन थारा बीत गया ,
चोखा दिन थारा बीत गया।
दिन अबका आवे रे ,
मना थारी उमर जावे रे ॥

मात – पिता सुण कामणी ,
माया भरमावे रे ।
करी कमाई थारी खोस लेवेला ,
पीछे पछतावे रे ।।
मना थारी उमर । …..

मोह माया री नींद में ,
काँहि सुखभर सोवे रे ।
रतन पदारथ मानखो ,
विरथा काँहि खोवे रे ॥
मना थारी उमर । …..

माया विष री वेलडी ,
तांता पसरावे रे ।
बाजीगर रा बांदरा ज्यूं ,
नाच नचावे रे ॥
मना थारी उमर । …..

ओ संसार मृगजळ भरियो ,
हाथ नी आवे रे ।
भटकत फिरे उजाड़ में ,
थारो जीव तरसावे रे
मना थारी उमर । …..

सन्त बड़ा परमारथी ,
सुण ज्ञान बतावे रे ।
सीधे रस्ते चालणो ,
सिमरथ समझावे रे ॥
मना थारी उमर । …..

jog bharti bhajan Video

मना थारी उमर जावे रे umar jave re mana thari, marwadi bhajan desi, चेतावनी भजन लिरिक्स, jog bharti bhajan
भजन :- मना थारी उमर जावे रे
गायक :- जोग भारती

Leave a Reply