मां बापा की सेवा करले मत बन दास लुगाई को भजन लिरिक्स

लोक और परलोक सुधरग्या ,
करले काम भलाई को।
माँ बापा की सेवा करले ,
मत बण दास लुगाई को।

ससुरा जी ने कहे बापू ,
सासु ने के माता
जन्म दियोड़ा माँ बापा ने ,
कदी नहीं दीदी साता।
ओरा को वे ग्यो रे बेटा ,
वियो ने जामण जाई को।
माँ बापा की सेवा। ….

आला में सूती रे माता ,
सूखा में थेने सुलायो।
सारा घर को काम बिगाडियो ,
थेन कदी नहीं रुलायो।
लूण मरच सु रोटी खाता ,
पायो दूध मलाई को।
माँ बापा की सेवा। ….

जद थू बेटा मोटो होयो ,
आस बंधी दुःख मत जासी।
असी कसी ने जाणी रे बेटा ,
पल में न्यारो हो जासी।
असी बात में पेली जाणता ,
नहीं करता काम सगाई को।
माँ बापा की सेवा। ….

छुला आगे बैठो रेवे ,
नहीं बैठे यो मनका में।
दादागिरी में रेवे रे भायो ,
नहीं रेवे यो लखणा में।
धर्म दान में कई नहीं देवे ,
नहीं देवे धान उगाई को।
माँ बापा की सेवा। ….

खरी केवु तो खोटी लागे ,
सब्द को चाले जोर नहीं।
इस दुनिया में माँ बापा से,
बढ़कर कोई और नहीं।
रामचंद्र ने थोड़ो समज ले ,
मत लजावे दूध माई को।
माँ बापा की सेवा। ….

लोक और परलोक सुधरग्या ,
करले काम भलाई को।
माँ बापा की सेवा करले ,
मत बण दास लुगाई को।

मत बन दास लुगाई को भजन लिरिक्स ma bapa ki seva karle mat ban das lugai ko chetavani bhajan lyrics

Leave a Reply