माला रो मणियों भजन वाली डोरी भजन लिरिक्स

।। दोहा ।।
राम नाम रटते रहो ,जब तक गट में प्राण।
कभी तो दीन दयाल के ,मनक पड़े सो काम।।

माला रो मणियो ,
भजन वाली डोरी।
आच्या घरा में पोयो जमारो ,
माया जाल में खोयो। २।

सत रे संगत में कदी नी आयो ,
हरी भजन में कदी नी आयो।
ऊपर वाड़ी जोयो जमारो ,
माया जाल में खोयो।
माला रो। ….

अळीये गळीये फिरे भटकतो ,
अळीये गळीये फिरे भटकतो
मुंडो काच में जोयो जमारो ,
माया जाल में खोयो।
माला रो। ….

गई रे जवानी आयो बुढ़ापो ,
गई रे जवानी आयो बुढ़ापो।
धोळा देख ने रोयो जमारो ,
माया जाल में खोयो।
माला रो। ….

कहेत कबीर सुनो भई साधु ,
कहेत कबीर सुनो भई साधु।
कई सांसरिया में मोयो जमारो ,
माया जाल में खोयो।
माला रो। ….

माला रो मणियो ,
भजन वाली डोरी।
आच्या घरा में पोयो जमारो ,
माया जाल में खोयो। २।

माला रो मणियों भजन वाली डोरी भजन लिरिक्स mala ro maniyo bhajan wali dori prakash mali bhajan

Leave a Reply