मीठा लागे भिलणी रा बोर भजन लिरिक्स

मीठा लागे भिलणी रा बोर ,
मीठा लागे भिलणी रा बोर ।
ओ लछमण भैया ,
मीठा लागे भिलणी रा बोर ।।

इण वन खण्ड में भैया ,
कबहुँ न आया ।
फिर गया चारूं ओर ओ लछमण भैया ,
मीठा लागे भिलणी रा बोर ॥

इण बोरां में भैया ,
केई – केई मीठा ।
खांडी है जिण री कोर ओ लछमण भैया ,
मीठा लागे भिलणी रा बोर ॥

एड़ा – एडा बोर देती ,
मात कौशल्या ।
जिण री रचना है और ओ लछमण भैया ,
मीठा लागे भिलणी रा बोर ॥

तुलसीदास ‘
शबरी बड़ भागण ।
घर आया राज किशोर ओ लछमण भैया ,
मीठा लागे भिलणी रा बोर ॥

प्रकाश माली भजन video

मीठा लागे भिलणी रा बोर mitha lage bhilni ra bor, प्रभाती भजन, प्रकाश माली भजन, राम जी भजन लिरिक्स, marwadi bhajan desi
भजन :- मीठा लागे भिलणी रा बोर
गायक :- प्रकाश माली

Leave a Reply