मेरी बहना अब तो भजूंगी हरिनाम भजन लिरिक्स

मेरी बहना अब तो भजूंगी हरिनाम, उमर सारी ढर गई।

(1) बालापन हँसखेल गवाँ दिया,
मेरी बहना तरुणाई भई है, वे काम, उमर सारी ढर गई।

(2) झूट कपट में ऐसी फँस गई,
मेरी बहना लिया न मैंने हरिनाम, उमर सारी ढर गई।

(3) मानव तन पायौ बड़े भाग्य से,
मेरी बहना भक्ति करूँगी निष्काम, उमर सारी ढर गई।

(4) दौलत यहीं पर रह जायगी,
मेरी बहना साथ न जायेगा छदाम, उमर सारी ढर गई।

(5) महल दुमहले यहीं रह जायेंगे,
मेरी बहना आखिर में देय संग हरिनाम, उमर सारी ढर गई।

(6) स्वाँस स्वाँस में रटूं राम को
मेरी बहना हृदय में बसाऊँ आठौं याम, उमर सारी ढर गई।

(7) महावीर मगन रहें सतसंग में,
मेरी बहना रहत हर्दपुर गाम, उमर सारी ढर गई।

Leave a Reply