मेहंदी रची थारे हाथा में भजन लिरिक्स

मेंहदी रची थारे हाथा मे,
उड रहयो काजल आंख्या मे।
चुनडी रो रंग सुरंग ,
म्हारी आमज माँ

अरे चांद उग्यो ओ राता मे,
फूल उग्यो रण बागा मे।
थारो ऐसो सुहाणौ रूप ,
म्हारी आमज माँ।
मेंहदी रची थारे हाथा मे।

रूप सुहाणौ जद सु दैख्यौ ,
निंदडली नहीं आंख्या ने।
भूल गई सब कामा ने ,
याद करूं थारे नामा ने।
माया रो झूठो संग ,
म्हारी आमज माँ।
मेंहदी रची थारे हाथा मे।

थे कहो तो माता मैं तो ,
नथणि बन जाऊं।
नथणि बन जाऊं,
थारा मुखड़ा पे रम जाऊं।
बोर गूथउ थारे माथा पे,
चुड़लो मँगाओ थारे हाथा में।
बण जाऊँ बाजूबंद,
म्हारी आमज माँ।
मेंहदी रची थारे हाथा मे।

थे कहो तो माता मैं तो ,
पायलड़ी बन जाऊं।
पायलड़ी बन जाऊं,
थारा चरणा में रम जाऊं।
फूल बिछउ थारा पावा में,
नित नित दर्शन आवा मैं।
नैणा में करलु बंद ,
म्हारी आमज माँ।

मेंहदी रची थारे हाथा मे,
उड रहयो काजल आंख्या मे।
चुनडी रो रंग सुरंग ,
म्हारी आमज माँ।

prakash mali bhajan lyrics bhajans music video song

मेहंदी रची थारे हाथा में भजन, mehandi rachi thare hatha mein aamaj mata ji bhajan lyrics hindi
माता जी भजन लिरिक्स
भजन :- मेंहदी रची थारे हाथा मे
गायक :- प्रकाश माली

Leave a Reply