मैं आरती तेरी गाऊं ओ अम्बे मात भवानी

मैं आरती तेरी गाऊं,
ओ अम्बे मात भवानी,
मैं नित नित ीश नवाऊं,
ओ दुर्गे माँ महारानी

है तेरा रूप निराा,
सच मुच में भोला भाला,
तुझसा ना प्यारा कोई,
ओ शेर सवारी वाली,
मैं आरती तेरी गाऊ,
ओ अम्बे मात भवानी।।

जो आये शरण तिहारी,
विपदा मिट जाए सारी,
हम सब पर कृपा करना,
ओ भक्तो की प्राण पियारी,
मैं आरती तेरी गाऊ,
ओ अम्बे मात भवानी।।

तूने शुम्भ निशुम्भ को मारा,
तूने चंड मुण्ड संहारा,
तूने देवो के प्राण बचाये,
ओ सृष्टि आधार भवानी,
मैं आरती तेरी गाऊ,
ओ अम्बे मात भवानी।।

जो गाएं आरती तुम्हारी,
तर जाए नर और नारी,
हम आये शरण तिहारी,
ओ अष्ट भुजाओ वाली,
मैं आरती तेरी गाऊ,
ओ अम्बे मात भवानी।।

मैं आरती तेरी गाऊं,
ओ अम्बे मात भवानी,
मैं नित नित शीश नवाऊं,
ओ दुर्गे माँ महारानी।।

Leave a Reply